Current affairs 26 December

उत्तरी पूर्वी राज्यों के लिए अलग समय जोन की मांग को भारत सरकार ने ठुकरा दिया है:-

  • वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद की राष्ट्रीय भौतिक प्रयोगशाला ने अपने शोध पत्र में भारत में दो समय खंड बनाने का सुझाव दिया था जिसको केंद्र सरकार ने ठुकरा दिया है l

पक्ष में तर्क –

  • भारत का देशांतरीय विस्तार 30 डिग्री है जो दर्शाता है कि भारत में दो कालखंड हो l
  • उत्तरी पूर्वी राज्यों में 4:00 बजे सूर्य उदय हो जाता है परंतु दिन के प्रकाश का उपयोग उचित रूप मै नहीं हो पाता है क्योंकि वहां के दफ्तर,स्कूलों आदि का समय भारतीय मानक समय के अनुसार निर्धारित होता है l
  • अतः शाम को अंधेरा भी जल्द हो जाता है जिससे कार्यालयों में विद्युत की खपत बढ़ जाती है l
  • वहां रहने वाले लोगों की जैविक घड़ी के लिए भी वहां एक समय होना लाभदायक रहेगा उत्तरी पूर्वी राज्यों में बहुत अधिक जैव विविधता पाई जाती है जो भारतीय मानक समय पर आधारित दिनचर्या के कारण प्रभावित होती है l
  •  इस शोध रिपोर्ट में उत्तरी पूर्वी राज्यों के लिए प्रस्तावित कालखंड गुण 89.52′ पूर्वी देशांतर को चुना गया है जिसके तहत असम, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, तथा अंडमान निकोबार दीप समूह आएंगे l

विपक्ष में तर्क  –

  • भारत अभी भी 2 मानक समय रेखा ओं को निर्धारित करने के लिए पूर्ण रूप से तैयार नहीं है क्योंकि अभी भी भारत में पृथकतावादी आंदोलन होते हैं l
  • 2 मानक समय होने से एक खंड से दूसरे खंड में जाने पर समय की घड़ी को मिलाना पड़ेगा जिससे मानवीय भूल के कारण रेल दुर्घटना भी बढ़ेगी l
  • उत्तरी पूर्वी राज्य ऐसे देशों के पास है जिनसे भारत के संबंध अच्छे नहीं है l
  • 2 मानक समय रखने पर परिवहन व्यापार आदि पर नकारात्मक प्रभाव पड़े l

बोगीबील पुल का उद्घाटन :-

  • प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 25 दिसंबर 2018 को असम के डिब्रूगढ़ जिले में भारत के सबसे लंबी रेल सड़क पुल का उद्घाटन किया l
  •  इस पुल की आधारशिला तत्कालीन प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने 22 जनवरी 1997 को रखी थी तथा इसका काम 2002 में अटल जी की सरकार के समय शुरू हो गया था l
  • ब्रह्मपुत्र नदी के दक्षिणी तथा उत्तरी तटों पर बनाया गया यह पुल असम की धीमाजी जिले को डिब्रुगढ़ जिले से जोड़ता है l
  • 3 लेन की सड़क और 2 रेलवे ट्रैक वाली इस पुल के निर्माण से अरुणाचल से लगती  चीन की सीमा तक आसानी से पहुंच होगी l

इस पुल का सैन्य महत्व भी है

  • दिल्ली से कनेक्टिविटी भी बढ़ेगी l
  • पंजाब हरियाणा व उत्तर भारत में असम से कोयला, उर्वरक, स्टोनचिप्स की रेल से सप्लाई भी बढ़ेगीl
  • 4 .90 किलोमीटर लंबी इस पुल की लागत 5800 करोड रुपए हैं तथा इसमें आधुनिक तकनीक का प्रयोग किया गया है l
  • देश का  पहला फुली वेल्डेड पुल जिसमें यूरोपिय मानको का प्रयोग हुआ है l

रिदु बंधु योजना:-

  • अगस्त 2018 में तेलंगाना सरकार ने किसानों के लिए रिदु बंधु नामक निवेश योजना निकाली थी l
  • इस योजना में किसानों को खेती से संबंधित आवश्यकताओं के लिए आर्थिक सहायता दी जाएगी l
  • इसमें प्रत्येक किसान को प्रति सीजन ₹4000 प्रति एकड़ दिया जा रहा है l
  • हाल ही में एसबीआई बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार का कहना है कि किसानों के ऋण माफ की जगह किसानों की आय बढ़ाने के लिए तेलंगाना सरकार की रिदु बंधु योजना जैसी सरकार को योजना चलानी चाहिए l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *